Naukri vs Business : जाने आपके लिए क्या सही रहेगा 2024

naukri vs business – हेलो दोस्तों आज हम एक ऐसे विषय पर बात करेंगे जो अधिकतर लोगो के दिमाग में घूमता रहता है और हो सकता है की ये आपके दिमाग में भी कभी न कभी आया होगा जी है दोस्तों हम बात कर रहे है naukri vs business के बारे में इसको लेकर बहोत सरे लोग उलझन में पड़े रहते है की हम क्या करे या क्या न करे तो आज हम इसके बारे में एक एक टॉपिक को समझने की कोशिश करेंगे की और आपको naukri vs business के बिच का अंतर बताएँगे जिससे आप क्लियर हो सको और आपको क्या करना है वो चुन सको।

naukri aur business, दोनों ही करियर के महत्वपूर्ण विकल्प हैं जिसके अपने-अपने फायदे और नुकसान हैं। नौकरी के बारे में अगर कहे तो इसमें आप स्थायी हो जाते है इसके आलावा आपको नौकरी में समय पर सेलेरी मिल जाता है और नौकरी में एक फायदा ये भी देखने को मिलता है की इसमें आपके परिवार को कई प्रकार के फायदे मिलते है जिसमे सबसे पहले जो है वो है जीवन बिमा, रिटायरमेंट और रहने के लिए आवास आदि ये सब आपको नौकरी में मिल जाता है

वही अगर हम बिज़नेस के बारे में बात करे तो बिज़नेस में आपको सही अनुभव की जरुरत होती है। बिज़नेस आपको अपने विचारो को साकार करने का मौका देता है इसमें आपको कई जगह पर जोखिम भी उठाना पड़ सकता है मगर है अगर आपका बिज़नेस एक बार चल दिया तो आप अपनी सोच से भी अधिक पैसा कमा सकते है और समाज में एक अलग पहचान बना सकते है लेकिन बिज़नेस करने के लिए आपको शुरुवात में निवेश के साथ धैर्य भी रखना पड़ेगा तब जाके बिज़नेस में आप सफल बन सकेंगे।

जॉब vs बिज़नेस में अंतर – (Naukri vs Business)

जॉब और बिजनेस दोनों ही करियर के विकल्प हैं जिनमें अपने-अपने फायदे और चुनौतियाँ होती हैं। निम्नलिखित विषयों के माध्यम से हम देखेंगे कि किस परिस्थिति में कौन सा विकल्प बेहतर हो सकता है और व्यक्ति को किस आधार पर निर्णय लेना चाहिए।

जॉब क्या है? 

जॉब को देखा जाये तो इसे हम एक तरह से पेशा ही कहेंगे जिसमे व्यक्ति किसी कंपनी या सरकारी जॉब में काम करता है और उसके बदले में उसे एक फिक्स सैलेरी मिलती है जो उसको हर महीने की शरुवात में उसके बैंक में आ जाता है जॉब में व्यक्ति टाइम पीरियड तक उसको काम करना होता है जो हो सकता है वो 8 घंटा हो या 12 घंटा इसके अलावा आपको सुविधाओं के रूप में छूती, रिटायरमेंट, पेंशन, बिमा इत्यादि योजनाए मिलती है।

और जॉब करने का सबसे बड़ा कारण ये भी होता है की इसमें आपको सैलेरी कम नहीं होती है ये एक फिक्स अमाउंट होता है और इसके साथ साथ आपको जॉब में अपनी फॅमिली के साथ में समय बिताने का मौका मिल जाता है।

जॉब के फायदे

  • सैलेरी – जॉब में जो सबसे बड़ा मोटिवेशन है वो ये है की उसमे आपका एक फि सैलेरी मिलना तय है इसमें आपको किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होती है।
  • भविष्य – अगर आप जॉब करते है तो उसमे आपका भविष्य सुरक्षित रहता है इसमें आपको हर महीने (PF) के टूर पर कुछ पैसे जमा होते रहते है जो आपको
  • आखिरी में मिलते है या आपातकालीन स्थिति में आप उसे निकल भी सकते है।
  • छुट्टी – जॉब में आपको एक प्रकार का लिमिट में छुट्टी मिलता है इसमें आपको पहले से ही तय रहता है जैसे पर्व त्योहारों पर इसके अलावा अगर आप घर पर किसी और कारन से जाना चाहेंगे तो लिव के लिए अलग से आवेदन करना पड़ता है।
  • पेंशन – जॉब में एक चीज़ का जो सबसे बड़ा फायदा है वो है पेंशन की सुविधा जो आपको रिटायर हो जाने के बाद हर महीने आपका अकाउंट में आता रहता है
  • बिमा – आप सरकारी नौकरी या बड़े ब्रांड वाली कम्पनिया में जॉब कर रहे है तो वे अपने कर्मचारियों को मेडिकल सुविधा के साथ साथ उनका इन्स्योरेन्स के भी सुविधा देती है।
  • विदेश – अगर आप बड़े ब्रांड वाली कंपनी में काम कर रहे है तो हो सकता है आप विदेश में भी जॉब करे क्योंकि बड़ी बड़ी कम्पनियो के नेटवर्क देश विदेश में फैले रहते है और वे अपने काबिल एम्प्लोयी को ही दूसरे देश की ब्रांच में बड़ा पद पर बैठा दे इसकी पूरी सम्भावना हो सकती है। और इसके साथ में सुविधा के तौर पर आपको रहने खाने व् हाई सैलेरी ये सब आपको कम्पनी देगी।
  • बोनस – अगर आप सरकारी नौकरी कर रहे है तो हो सकता है उसमे आपकी सैलेरी में कुछ प्रतिशत की बढ़ोतरी होगी वही अगर आप प्राइवेट कंपनी में जॉब कर रहे है तो वह पर आपको हर साल बोनस मिलता है।
  • करियर – ये पूरी सम्भावना हो सकती है की आप अगर नौकरी करते हुए काम को सिख ले रहे है तो भविष्य में खुद का बिज़नेस शुरू कर सकते है।
  • समय – अगर आप सरकारी नौकरी कर रहे है तो जॉब में आपको सिर्फ 8-9 घंटे ही काम करना पड़ता है वही अगर आप प्राइवेट सेक्टर में काम करे है तो हो सकता है 8-12 घंटे काम करने पड़े।
  • अनुकम्पा – ये सिर्फ सरकारी नौकरी में होता है अगर आप किसी कारन वश डेथ कर जाते है आपका जॉब के बदले में आपके बेटे को या परिवार में से किसी अन्य सदस्य को वो जॉब मल जाता है।

बिज़नेस क्या है?

बिज़नेस का जन्म कई कारन से हो सकता है आर्थिक स्थिति का कमजोर होना आपके मित्र का बिज़नेस में होना या आपकी सोच सुरु से ही बिज़नेस कर क बड़ा आदमी होना या बहोत सारा पैसा कामना के लिए कुछ भी हो सकता है बिज़नेस कई प्रकार से कर सकते है एक कारन ये भी हो सकता है की देश की बढ़ती आबादी में जॉब का न मिल पाना बहोत सारा कारन हो सकता है लेकिन क्या आप जानते है की बिज़नेस से आप अपनी और अपनी फैमिली का भविष्य भी बना सकते है।

अपने आने वाले कल को बेहतर भी बना सकते है मेरे कहने का मतलब ये है की अगर आप ढेर सारा पैसा कामना चाहते है तो आप बिज़नेस करे लेकिन बिज़नेस करने के लिए आपको मार्किट की जानकारी होनी जरुरत है इसके साथ साथ आपको जोखजिम लेने में डरना नहीं पड़ेगा क्योंकि बिज़नेस में पैसा तो बहोत है लेकिन रिस्क भी है अगर बिज़नेस चला तो पैसा ही पैसा नहीं चला तो पैसो का नुकसान भी उठाना पड़ सकता है इसलिए अगर आप बिज़नेस करने की सोच रहे है तो आपको मार्केट की समझ होना चाहिए और उसके साथ साथ आपको प्रोडक्ट का चयन भी सोच समझ कर करना चाहिए।

बिजनेस कई प्रकार का हो सकता है, जिसमें वस्तुओं या सेवाओं का उत्पादन, खरीद, बिक्री और वितरण शामिल होता है, इसका मुख्य उद्देश्य पैसा कमाना होता है। बिजनेस में जैसे कि खुदरा व्यापार, थोक व्यापार, सेवा प्रदान करने वाले व्यापार, उत्पादन आधारित व्यापार, और ऑनलाइन व्यापार एक बिजनेस की स्थापना और संचालन में जोखिम शामिल होता है, लेकिन यह समाज के विकास और रोजगार सृजन में महत्वपूर्ण योगदान भी करता है। इसके अलावा, बिजनेस आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहित करता है और देश की अर्थव्यवस्था के विकास में सहायक होता है।

naukri vs business

बिज़नेस के फायदे

  • स्वंत्रता – अगर आप खुद का बिज़नेस करते है तो आप खुद का मालिक होंगे किसी के अधीन रह कर काम नहीं करना होगा आप अपनी आजादी से काम कर सकते है।
  • आत्मविश्वास – अगर आप बिज़नेस करते है तो आपके अंदर खुद के लिए आत्मविश्वास पैदा होगा अपने लिए गए फैसले को सच करने का अपने नज़र में आपका सम्मान अपने लिए और भी बढ़ेगा।
  • ब्रांड – अगर आप खुद का बिज़नेस करते है तो आप अलग अलग क्षेत्रों में काम कर सकते है जिससे आपका हुनर और भी बढ़ेगा और आपके के अंदर नयी नयी आइडियाज पर काम करने का हौसला मिलेगा और खुद का ब्रांड बनाने का मौका मिलेगा।
  • रूचि – बिज़नेस में आप अपनी पसंद के हिसाब से बिज़नेस कर सकते है जिसमे आपका मन लगे वैसा काम कर सकते है जिससे आप बोर न हो सके और लम्बे टाइम तक मन लगा के काम कर सके।
  • पैसो का स्रोत – बिज़नेस में मन चाहा पैसा होता है उसमे आपके ऊपर निर्भर करता है की आप कितना बना सकते है क्योंकि बिज़नेस एक समंदर जैसा होता है आप जितना चाहो उतना पाओ बशर्ते सही बिज़नेस में काम करने आना चाहिए।
  • भविष्य – बिज़नेस के माध्यम से आप अपनी भविष्य को सही दिशा में ले जा सकते है और उसी खड़े किये हुए बिज़नेस से आपकी आने वाली पीढ़ी का भी भविष्य सेक्योर हो सकते है।
  • सम्पति – बिज़नेस करने से आप बेतहासा सम्पति बना सकते है और अपने लिए भविष्य में एक सम्पति खड़ा कर सकते है।
  • रोजगार – बिज़नेस के जरिये आप दुसरो को भी रोजगार दे सकते है
  • ग्लोबल ब्रांड – अगर आप बिज़नेस करते है तो ये मुमकिन हो सकते है की कल को आपका बिज़नेस ग्लोबल लेवल पर कर सके जबकि नौकरी में आप अपने बारे में सोच ही नहीं सकते।
  • अनुभव – बिज़नेस करने के लिए आपको किसी भी प्रकार का डिग्री का होना जरुरी नहीं है आपको बिज़नेस करने के लिए डिग्री की नहीं अनुभव की आवस्यकता होती है जो की आपको बिज़नेस करने से अनुभव अपने आप आ जाता है।
  • रिस्क – अगर आप बिज़नेस करने की सोच रहे है तो ये ध्यान रखे की बिज़नेस में आपको जोखिम उठाना पड़ सकता है उसके बाद ही आप बिज़नेस में कुछ सिख पते है।

निष्कर्ष :

दोस्तों आप लाइफ में कुछ भी करे लेकिन एक बार सोच समझ कर करे क्योंकि लाइफ में हर चीज़ बार बार नहीं मिलती है जिंदगी एक मौका हर किसी को देती है अब ये आपके ऊपर निर्भर करता है की आप उस मौके का इस्तेमाल करते है या उसको व्यर्थ में जाने देते है तो मिलते है एक और नए आर्टिकल के साथ जो आपके लिए मददगार हो मैं आपका बंधू रूद्र (forbrother.com)

और पढ़े :

Leave a Comment